fbpx
  Previous   Next
HomeNationअजित पवार की एंट्री से शिंदे गुट में हडकंप? ताबरतोड MP-MLAs के...

अजित पवार की एंट्री से शिंदे गुट में हडकंप? ताबरतोड MP-MLAs के साथ CM शिंदे ने की बैठक

पिछले साल जून में एकनाथ शिंदे ने 40 विधायकों और 10 निर्दलीय विधायकों के साथ शिवसेना छोड़ दी थी और फिर बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाई थी.

चाचा शरद पवार से बगावत के बाद अजित पवार बीजेपी और शिवसेना (एकनाथ शिंदे गुट) की सरकार में शामिल होने के बाद से महाराष्ट्र की सियासत में घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं. उन्होंने ‘महायुति’ यानी गठबंधन का ऐलान किया. इसके बाद अजित पवार को डिप्टी सीएम और उनके 8 समर्थक विधायकों को मंत्री की शपथ दिला दी गई. अजित पवार ने बुधवार को शक्ति प्रदर्शन कर अपना दमखम भी दिखा दिया. इस पूरे मामले को लेकर एकनाथ शिंदे खेमे में हलचल बढ़ गई है.

Ajit Pawar Eknath Shinde 1


विधायकों द्वारा नाराजगी व्यक्त करने पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बुधवार को अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए. उन्होंने विधायकों और सांसदों की तत्काल बैठक बुलाई. अब इस मीटिंग को लेकर शिवसेना की बैठक के बाद विधायक उदय सामंत ने बयान दिया है. उन्होंने गठबंधन में किसी भी तरह के मतभेद से साफ इनकार किया है.

mumbai member of the maharashtra legislative assembly and shiv sena maharashtr


दरअसल, ऐसी खबरें आ रही हैं कि महाराष्ट्र कैबिनेट विस्तार के लिए लंबे समय तक इंतजार करने के बावजूद शिंदे गुट के कई नेताओं को मंत्री पद नहीं मिला, लेकिन अजित पवार के लिए सरकार में अचानक 9 नए मंत्री बना दिए गए. इससे शिंदे गुट के विधायक नाखुश हैं. उधर, अजित पवार ने बुधवार को शक्ति प्रदर्शन के बाद ऐलान किया कि वो भी मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं. ऐसे में शिवसेना में असंतोष की अटकलें लगाई जा रही हैं. शिंदे गुट के विधायकों ने बार-बार कहा है कि अगर बाला साहेब ठाकरे होते, तो कभी एनसीपी के साथ नहीं जाते.

IMG 11908 2 7 2023 20 56 2 1 6BBECO2A


एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना के नेताओं का कहना है कि सत्ता में भागीदारी का मतलब है सत्ता में हिस्सेदारी…. खबर है कि शिवसेना के असंतुष्ट विधायकों के एक समूह ने मांग की है उन्हें जल्द से जल्द मंत्री पद दिया जाये. इसलिए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के सामने खफा विधायकों को मनाने की बड़ी चुनौती है.

Udhhav Eknath

बता दें कि पिछले साल जून में एकनाथ शिंदे ने 40 विधायकों और 10 निर्दलीय विधायकों के साथ शिवसेना छोड़ दी थी और फिर बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाई थी. जब महाविकास अघाड़ी सरकार थी, तब खुद एकनाथ शिंदे ने ये आरोप लगाया था कि तत्कालीन उप मुख्यमंत्री अजित पवार उनके विधायकों के साथ अन्याय कर रहे थे. उनका कहना था, “वे हमारे विधायकों को फंड नहीं दे रहे थे, इसलिए हमने ये सरकार छोड़ दी है.” लेकिन अब वही अजित पवार शिंदे-फडणवीस की सरकार में शामिल हो गए हैं. ऐसे में शिंदे गुट के विधायकों का मानना है कि अजित पवार को गठबंधन में शामिल करने से फंड की समस्या दोबारा हो सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

More News

एक्टर Jaideep Ahlawat ने ऐसे घटाया 5 महीनों में 26 किलो वजन, जानिए 40 की उम्र में कैसे करें वेट लॉस?

अभिनेता जयदीप अहलावत नेटफ्लिक्स मूवी महाराज में एक दुष्ट धर्मगुरु की भूमिका में शानदार अभिनय के लिए खूब प्रशंसा बटोर रहे हैं. बॉलीवुड के...

गर्मियों में चेहरे के मुंहासे से है परेशान, ये खास 3 तेल लगाने से कुछ ही दिनों फेस दिखेगा चकाचक !

ऑयलिंग स्किन केयर लिए बेस्ट मानी जाती है. फेस पर ऑयल लगाने से ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है. जिससे स्किन मुलायम और कोमल होती...

बिहार में बेवफाई का खौफनाक बदला…! डॉक्टर प्रेमिका ने काट पार्षद प्रेमी का प्राइवेट पार्ट !

बिहार के छपरा जिले के मढ़ौरा से सनसनीखेज घटना सामने आई है, डॉक्टर प्रेमिका ने अपने प्रेमी का प्राइवेट पार्ट काट दिया, इसके बाद...

RELATED NEWS

यूपी: हाथरस में भोले बाबा के सत्संग में भगदड़ से 116 से ज्यादा लोगों की दर्दनाक मौत, बाबा का अखिलेश यादव से कनेक्शन आया...

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में आज नारायण साकार विश्व हरि के नाम से प्रसिद्ध भोले बाबा के कार्यक्रम में लाखों की संख्या भक्तो...

क्या आप जानते हैं क्यों गिरती है बिजली ? बिजली गिरने से भारत में होती हैं कितनी मौतें ?

बरसाती मौसम जहां देश के किसान के लिए महत्वपूर्ण होता है तो किसी के लिए काल समान भी होता है . इस मौसम में...

18 जून को हुई UGC-NET 2024 की परीक्षा रद्द, पेपर लीक होने का शक के चलते भारत सरकार ने निर्णय लिया है

NEET का विवाद अभी शांत भी नहीं हुआ था इसी बीच अब UGC-NET 2024 की परीक्षा रद्द कर दी गई है. 18 जून को...