fbpx
  Previous   Next
HomeNationlatest NewsISRO के लिए क्यों महत्वपूर्ण है आदित्य L1 मिशन , सूर्य का...

ISRO के लिए क्यों महत्वपूर्ण है आदित्य L1 मिशन , सूर्य का अध्ययन भारत के लिए मिशन क्यों है महत्वपूर्ण?

ISRO, 2 सितंबर का सुबह यानि करीब 11:50 बजे, श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से भारत अपना पहला अंतरिक्ष-आधारित सौर मिशन आदित्य L1 लॉन्च करने के लिए है तैयार.

चंद्रयान-3 का चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास सफलतापूर्वक उतारने के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानि ISRO अब 2 सितंबर की सुबह यानि 11:50 बजे श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से भारत अपना पहला अंतरिक्ष-आधारित सौर मिशन आदित्य L1 लॉन्च करने के लिए पूरी तरह तैयार है. आदित्य L1 सूर्य-पृथ्वी लैग्रेंज बिंदु L1 पर एक दूरस्थ स्थान से सौर कोरोना का निरीक्षण करेगा.

1693265460 sunfinal


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि भारत के पहले सौर मिशन आदित्य-एल1 के माध्यम से एकत्र किए गए आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद सूर्य के अतीत, वर्तमान और भविष्य के बारे में नयी जानकारी मिल सकेगी. आने वाले दशकों और सदियों में पृथ्वी पर संभावित जलवायु परिवर्तन को समझने के लिए यह आंकड़े महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं.

Diagram of Sun Earth Lagrange points


लैग्रेंज प्वाइंट के बारे में बात करें तो उसे ऐसा संतुलन बिंदु को कहा जाता है जहां सूर्य और पृथ्वी के गुरुत्वीय बल बराबर होते हैं. आदित्य एल1 को सूर्य-पृथ्वी की व्यवस्था के लैग्रेंज बिंदु यानि L1 के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में रखा जाएगा, जो पृथ्वी से लगभग 15 लाख किलोमीटर दूर है. यहां से सूर्य को बिना किसी व्यवधान या ग्रहण के लगातार देखने का लाभ मिलेगा. सौर अवलोकनों के लिए L1 बिंदु को लैग्रेंजियन बिंदुओं में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, जिसकी खोज गणितज्ञ जोसेफ लुईस लैग्रेंज ने की थी.

de66d8e8 499b 4cac a4dd 36d3e20600f3 1150x800

इसरो ने कहा है कि, “एल 1 बिंदु के चारों ओर हेलो कक्षा में रखे गए उपग्रह को बिना किसी ग्रहण के लगातार सूर्य को देखने का प्रमुख लाभ मिलता है. इससे वास्तविक समय में सौर गतिविधियों और अंतरिक्ष मौसम पर उनके प्रभाव को देखने का एक बड़ा लाभ मिलेगा.”

1200px Lagrange points simple.svg

सूर्य का अध्ययन करने के लिए भारत की पहली अंतरिक्ष-आधारित वेधशाला- आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान, पीएसएलवी-सी57 रॉकेट का उपयोग करके लॉन्च किया जाएगा. आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान सूर्य के कोरोना, क्रोमोस्फीयर, फोटोस्फीयर और सौर हवा का अध्ययन करने के लिए सात पेलोड से लैस होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

More News

गर्मी में डायबिटीज पेशेंट ऐसे रखें ख्याल, हीटवेव शुगर लेवल बिगाड़ सकती हैं

देश में भीषण गर्मी धीरे धीरे जोर पकड़ रही है, इसलिए सेहत का खास ख्याल रखना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है. बहुत ज्यादा गर्मी...

धनुष ने अपनी आने वाली फिल्म ‘कुबेरा’ का पोस्टर किया शेयर, फैन्स बोले – साउथ का एक और धमाका होने वाला है.

तमिल सुपरस्टार धनुष ने अपने इंस्टाग्राम पर अपनी आनेवाली फिल्म 'कुबेर' का पोस्टर शेयर किया है. पोस्टर में एक्टर को अस्त-व्यस्त और बिखरे हुए...

सलमान खान से मुलाकात के बाद किसने ली लॉरेंस बिश्नोई को खत्म करने की कसम !

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मंगलवार को अभिनेता सलमान खान के घर पहुंचकर उनसे मुलाकात की. हाल ही में मुंबई के बांद्रा स्थित...

RELATED NEWS

सरकार KYC के नियमों में बड़ा बदलाव कर लाने जा रही है Uniform KYC, क्या मिलेगा फा?

KYC हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है. सभी तरह के बैंकिक कार्यो के लिए केवाईसी सबके लिए अनिवार्य है. हर काम...

टोल टैक्स भुगतान के लिए फास्टैग सिस्टम हुआ पुराना अब सैटेलाइट से कट जाएंगे आपके पैसे. जानें, कैसे काम करेगा सिस्टम !

भारत से विशाल देश में जहां वाहन का भार दिन -प्रतिदिन बढती जा रही है और टोल बूथ पर जाम की समस्या आ हो...

यूपी के बदायूं में बड़ा बवाल ! मुस्लिम नाई ने तलवार से 2 हिन्दू बच्चों को काट डाला, दोनों बच्चों की मौत. पुलिस एनकाउंटर...

उत्तर प्रदेश के बदायूं में उत्तर मंगलवार रात करीब आठ बजे ठेकेदार विनोद ठाकुर के दो बच्चों आयुष (13) वर्ष, अहान (06) वर्ष की...