fbpx
  Previous   Next
HomeNationबिहार के जननायक और पूर्व CM कर्पूरी ठाकुर को मरणोपरांत मिलेगा 'भारत...

बिहार के जननायक और पूर्व CM कर्पूरी ठाकुर को मरणोपरांत मिलेगा ‘भारत रत्न’

दो बार मुख्यमंत्री और एक बार उप मुख्यमंत्री रहे चूके कर्पूरी ठाकुर बिहार के पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे. वो राज्य में . 1952 में हुए पहली विधानसभा के चुनाव में जीतकर कर्पूरी ठाकुर पहली बार विधायक बने.

बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को मरणोपरांत भारत रत्‍न से नवाजा जाएगा. राष्‍ट्रपति की ओर से जारी बयान में उन्‍हें भारत रत्‍न देने का ऐलान किया गया है. उन्‍हें काफी समय से भारत रत्‍न देने की मांग की जा रही थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक पोस्‍ट के जरिए कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्‍न देने पर खुशी जताई है. बिहार में जननायक के रूप में उभरे कर्पूरी ठाकुर का जन्‍म 1924 में हुआ था. वह बिहार के पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे. कर्पूरी ठाकुर राज्य में दो बार मुख्यमंत्री और एक बार उप मुख्यमंत्री रहे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्‍न देने की घोषणा के बाद एक्‍स पर एक पोस्‍ट किया है, जिसमें उन्‍होंने लिखा, “मुझे खुशी है कि भारत सरकार ने सामाजिक न्याय के प्रतीक महान जननायक कर्पूरी ठाकुर जी को भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है और ऐसे वक्‍त में जब हम उनकी जन्मशती मना रहे हैं. यह प्रतिष्ठित सम्मान हाशिये पर मौजूद लोगों के लिए एक विजेता और समानता और सशक्तिकरण के समर्थक के रूप में उनके स्थायी प्रयासों का प्रमाण है.”

12121 1

कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने का सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव में स्वागत करते हुए लिखा है कि आरक्षण विरोधियों को मन मारकर पीडीए के सामने झुकना पड़ा रहा है.

111

1952 में हुए पहली विधानसभा के चुनाव में जीतकर कर्पूरी ठाकुर पहली बार विधायक बने और आजीवन विधानसभा के सदस्य रहे. 1967 में जब पहली बार देश के नौ राज्यों में गैर कांग्रेसी सरकारों का गठन हुआ तो बिहार की महामाया प्रसाद सरकार में वे शिक्षा मंत्री और उपमुख्यमंत्री बने.

2121212121 3

1977 में पहली बार बने थे मुख्‍यमंत्री
कर्पूरी ठाकुर का संसदीय जीवन सत्ता से ओत-प्रोत कम ही रहा. उन्होंने अधिकांश समय तक विपक्ष की राजनीति की. बावजूद उनकी जड़ें जनता-जनार्दन के बीच गहरी थीं. उन्होंने 1977 में पहली बार मुख्यमंत्री का पद संभाला था. कर्पूरी ठाकुर ने सामाजिक भेदभाव और असमानता के खिलाफ जीवन भर संघर्ष किया और बिहार की राजनीति में गरीबों और दबे-कुचले वर्ग की आवाज बनकर उभरे थे.

1211121212

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

More News

सिंगापुर के बाद हांगकांग ने भी MDH और Everest मसालों पर लगाया बैन, भारत की सरकार अब जागी है और करेगी सैंपलों की टेस्टिंग.

सिंगापुर के बाद हांगकांग ने भारतीय कंपनियों MDH प्राइवेट लिमिटेड और Everest फूड प्रोडक्ट्स लिमिटेड के करी मसालों की सेल पर बैन लगा दिया...

कब्ज की समस्या से है परेशान तो आज से ही खाना शुरू करें ये ड्राई फ्रुट, कब्ज की समस्या हो जाएगी छूमंतर

ड्राई फूड्स का सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है बस इसके खाने का समय और तरीका भर सही होना चाहिए. अखरोट...

ऑस्ट्रेलियाई पूर्व दिग्गज ने ‘थाला’ को लेकर क्यों कह दी ये बड़ी बात कि “यह एकदम समझ से परे है कि…”,

आईपीएल में एमएस धोनी की बैटिंग को देखर हर कौई हैरान है, आईपीएल में एमएस धोनी ने लखनऊ के खिलाफ 9 गेंदों में नाबाद...

RELATED NEWS

आयुष्मान योजना के तहत ‘बुजुर्गों’ के अच्छे दिन आ सकता है, बुजुर्गों’ को 5 लाख तक का फ्री इलाज !

देश के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के नागरिकों को आयुष्मान योजना के तहत सरकार लाभार्थियों को ₹5,00,000 तक निःशुल्क स्वास्थ्य बीमा प्रदान की...

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मोदी का मास्टरस्ट्रोक ! हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई शरणार्थियों को मिलेगी भारत की नागरिकता.

केंद्र की मोदी सरकार ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले 2019 के इचुनावी घोषणा पत्र में किए गए एक और वादे को आखिरकार धरातल...

मात्र 25 रु में आवेदन कर, बिना परीक्षा दिए पाएं सरकारी नौकरियां, UPSC ने निकाली 120 पद पर वैकेंसी?

संघ लोक सेवा आयोग यानि UPSC ने हाल ही में 120 नई भर्ती का नोटिफिकेशन जारी किया है. आयोग ने ये भर्तियां असिस्टेंट डायरेक्टर,...